Book Details

HINDU DHARMA MEIN VAIGYANIK MANYATAYEN (Hindi Edition)(1)

HINDU DHARMA MEIN VAIGYANIK MANYATAYEN (Hindi Edition)(1)


वैदिक धर्म काजो वर्तमान स्वरूपहमें आजकल देखनेको मिलता है,उसे आज कातर्कशील व वैज्ञानिकदृष्टिकोण रखनेवाला मानव अंधविश्वास,आस्था व रूढ़िवादकी संज्ञा देताहै। यह विचारणीयहै कि क्यावास्तव में हमारेधर्म की पूजा-पाठ विधि,पर्व-त्योहार, सांस्कृतिकमान्यताएँ व रीति-रिवाज केवल आस्थापर टिके हैंया फिर उनकाकोई वैज्ञानिक आधारहै? प्रायः देखा गयाहै कि पढ़े-लिखे लोग,जो अपने को बुद्धिजीवी मानते हैं, वे धर्म की परंपरा,परिपाटी व उसके वर्तमान स्वरूप की यातो उपेक्षा करते हैं या फिर उसके प्रति व्यंग्यात्मक रवैया अपनाते हैं।उनमें से कुछ का तो यह भी मानना है कि हमारी धार्मिक मान्यताओं का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। परंतु उनकी यह सोच वास्तविकतासे बहुत परे है, क्योंकि जिन लोगों ने हिंदूधर्म के मूलरूप को जाना व अध्ययन किया है, वे जानते हैं कि हमारे धर्म का एक सुदृढ़ वैज्ञानिक आधार है।आवश्यकता केवल उसके मर्म और मूलस्वरूप को समझनेकी है।

Author: K.V. Singh

Pages: 92

Issue By: Shri Krishna

Published: 1 month ago

Likes: 0

    Ratings (0)


Related Books